हिंदी के पुराने साहित्य का पुनरुद्धार प्रत्येक साहित्यिक का पुनीत कर्तव्य है। - पीताम्बरदत्त बड़थ्वाल।

मनीष कुमार मिश्रा की दो ग़ज़लें  (काव्य)

Print this

Author: मनीष कुमार मिश्रा

शरद की रातों में हरसिंगार झरता रहा
वो चुपचाप चांदनी पीकर महकता रहा।

चुनकर उसे कितनों ने गले का हार किया
ना जाने कितनी आहों से वह लिपटा रहा।

वो लड़की जिज्ञासा का उत्तम उदाहरण है
जिसके बारे में मुझसे हरकोई पूछता रहा।

रात में उस चांद ने मुझे अकेला न छोड़ा 
जब तक चल सका वो साथ चलता रहा।

रुकोगी नहीं ? यह मेरा आख़री सवाल था
भर निगाह देखा उसे जाते कि देखता रहा।

-डॉ मनीष कुमार मिश्रा 

                     #

इन बारिश की बूंदों ने कमाल कर दिया
उसे जी भर भिगोकर निहाल कर दिया।

नए शासक का नया निज़ाम अनोखा है
सब मारे जाएंगे अगर सवाल कर दिया।

ये बादलों की दिल्लगी अजीब है बहुत
पड़ा कहीं सूखा कहीं अकाल कर दिया।

क्या बुरा था कि जाते हुए हँसकर जाते
उन्होंने जाते हुए बड़ा मलाल कर दिया।

जितना सुलझाना चाहा उतना ही उलझे 
इश्क को ख़ुद जी का जंजाल कर दिया।

-डॉ मनीष कुमार मिश्रा 
ई-मेल : manishmuntazir@gmail.com

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश