हिंदी का काम देश का काम है, समूचे राष्ट्र निर्माण का प्रश्न है। - बाबूराम सक्सेना

सरल हैं; कठिन है | हास्य-व्यंग्य (काव्य)

Print this

Author: चिरंजीत

सरल है बहुत चाँद सा मुख छुपाना,
मगर चाँद सिर का छुपाना कठिन है।
अगर नौकरी या कि धंधा मिला हो,
कि पहना हुआ सूट बढ़िया सिला हो,
सरल है बहुत ब्याह करना किसी से,
मगर ब्याह करके निभाना कठिन है।

अगर सीनियर हैं, सभी से ठनी है,
जरा तिकड़मी, भाग्य के भी धनी हैं,
सरल है बहुत अफसरी, किंतु घर में--
तनिक अफसरीयत दिखाना कठिन है।

सभी लोग सच्चे, दया-धर्मवाले,
कि ईमानवाले, हया शर्मवाले,
सरल नेक बनना व नेकी चुकाना,
मगर कर्ज लेकर चुकाना कठिन है।

अगर है चवन्नी लिया एक सिगरिट,
बची जो चवन्नी लिया पान झटपट,
सरल है रईसी दिखाना, अकड़ना,
मगर जेब खाली छुपाना कठिन है।

अगर है तबीयत जरा रंगवाली,
तुरत छंद में बाँध तुक भी भिड़ा ली,
सरल है बहुत, काव्य-रचना सरल है,
मगर काव्य-पुस्तक छपाना कठिन है।

-चिरंजीत

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश