साहित्य का स्रोत जनता का जीवन है। - गणेशशंकर विद्यार्थी।

तीन हाइकु (काव्य)

Print this

Author: पवन कुमार जैन

कोरोना भी है
रोटी के लिए कुछ
करना भी है।

जोहते बाट
बारी-बारी पहुँचे
श्मसान घाट।

सर्व सम्पन्न
धन-साधन-अन्न
मन विपन्न

-पवन कुमार जैन

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें