साहित्य का स्रोत जनता का जीवन है। - गणेशशंकर विद्यार्थी।

नेतावाणी-वंदना | हास्य कविता (काव्य)

Print this

Author: डॉ रामप्रसाद मिश्र

जय-जय-जय अंग्रेज़ी-रानी ! 

'इंडिआ, दैट इज़, भारत की भाषाएं भरती पानी। 
सेवारत हैं पिल्ले, मेनन, अयंगार, मिगलानी 
तमिलनाडु से नागालैण्ड तक ने सेवा की ठानी। 

तेरे भक्तों को हिंदी में मिलती नहीं रवानी 
शब्दों की भिक्षा ले-ले उर्दू ने कीर्ति बखानी। 
एंग्लो-इंडिअन भाई कहते, तू भारत की वाणी 
अड़गम-बंडगम-कड़गम कहते, तू महान्, कल्याणी। 

अंकल, आँटी, मम्मी, डैडी तक है व्याप्त कहानी 
पब्लिक स्कूलों से संसद तक तूने महिमा तानी। 
अंग्रेज़ी में गाली देने तक में ठसक बढ़ानी 
फिर, भाषण में क्यों न लगे सब भक्तों को सिम्फॉनी। 

मैनर से बैनर, पिओन से लीडर तक लासानी 
सभी दंडवत् करते तुझको, तू समृद्धि-सुख-दानी।

जय जय जय अंग्रेजी रानी ! 
जय जय जय अंग्रेज़ी रानी !!

-डॉ रामप्रसाद मिश्र

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें