साहित्य का स्रोत जनता का जीवन है। - गणेशशंकर विद्यार्थी।

एक बैठे-ठाले की प्रार्थना  (काव्य)

Print this

Author: पं० बदरीनाथ भट्ट

लीडरी मुझे दिला दो राम,
चले जिससे मेरा भी काम।
कुछ ही दिन चलकर दलदल में फंस जाती है नाव,
भूख लगे पर दूना जोर पकड़ते मन के भाव--
कि मैं भी कर डालूँ कुछ काम,
लीडरी मुझे दिला दो राम ॥1॥

हिन्दू-मुस्लिम-प्रेम-भाव का करूँ गर्म बाजार,
देश-भक्ति का मेरे ही सिर रख दो दारमदार--
लगा दूँ लेक्चरों का लाम,
लीडरी मुझे दिला दो राम ॥2॥

धर्म कर्म की धूम मचाकर कलि को कर दूँ चूर,
पृथ्वी पर ही स्वर्ग दिखा दूँ, करू दिलद्दर दूर--
दाम के दाम, नाम का नाम !
लीडरी मुझे दिलो दो राम ॥3॥

- पं० बदरीनाथ भट्ट
  [1924]

 

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें