इस विशाल प्रदेश के हर भाग में शिक्षित-अशिक्षित, नागरिक और ग्रामीण सभी हिंदी को समझते हैं। - राहुल सांकृत्यायन।

क्षणिकाएँ  (काव्य)

Print this

Author: कोमल मेहंदीरत्ता

विडंबना


इक अदना-सा मोबाइल
कुछ हजार या
कुछेक का, लाख़ का भी मोबाइल
कभी दूर के रिश्तों को जोड़ता था
आज
पास के रिश्तों को ही तोड़ता है मोबाइल


#

 

दिखावे की दुनिया


हमारे रूतबे का प्रतीक : सड़कों पर दौड़ती-चमकती गाडियाँ
घंटो जाम में खड़ी है अपने एक अदद मालिक और टोपी धारी शॉफर के साथ ।
बड़े-बड़े शहरों की लगातार छोटी होती जाती सड़कें भी बेचारी क्या करें?
हाय! ये दिखावे की दुनिया, ये होड़ा-होड़ी।

- कोमल मेहंदीरत्ता
komalmendiratta@hotmail.com

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश