भाषा विचार की पोशाक है। - डॉ. जानसन।

सोने के हिरन  (काव्य)

Print this

Author: कन्हैया लाल वाजपेयी

आधा जीवन जब बीत गया
बनवासी सा गाते-रोते
तब पता चला इस दुनियां में
सोने के हिरन नहीं होते।

संबंध सभी ने तोड़ लिए
चिंता ने कभी नहीं तोड़े
सब हाथ जोड़ कर चले गये
पीड़ा ने हाथ नहीं जोड़े

सूनी घाटी में अपनी ही
प्रतिध्वनियों ने यों छला हमे
हम समझ गये पाषाणों के--
वाणी, मन, नयन नहीं होते।

मंदिर-मंदिर भटके-लेकर
खंडित विश्वासों के टुकड़े
उसने ही हाथ जलाये, जिस--
प्रतिमा के चरण युगल पकड़े

जग जो कहना चाहे, कह ले
अविरल दृग जल धारा बह ले
पर जले हुए इन हाथों से
अब हमसे हवन नहीं होते।

- कन्हैया लाल वाजपेयी
  [श्रेष्ठ हिन्दी गीत संचयन]

 

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें