राष्ट्रीयता का भाषा और साहित्य के साथ बहुत ही घनिष्ट और गहरा संबंध है। - डॉ. राजेन्द्र प्रसाद।
काफिर की व्याख्या - भारत-दर्शन संकलन  
   Author:  भारत-दर्शन संकलन

बालक कबीर साहब जब छोटे- छोटे बच्चों के साथ खेलते थे, तब सदैव "राम- राम", "गोविंद- गोविंद", "हरि- हरि" कहा करते थे। यह सुनकर मुसलमान लोग कहते थे कि यह लड़का कट्टर काफ़िर होगा। बालक कबीर ने उन मुसलमानों को जवाब दिया -

- काफ़िर वह होगा, जो दूसरों का माल लूटता होगा।
- काफ़िर वह होगा, जो कपट भेष बनाकर संसार को ठगता होगा।
- काफ़िर वह होगा, जो निर्दोष जीवों को काटता होगा।
- काफ़िर वह होगा, जो मांस खाता होगा।
- काफ़िर वह होगा, जो मदिरा पान करता होगा।
- काफ़िर वह होगा, जो दुराचार तथा बटमारी करता होगा।

फिर मैं कैसे काफ़िर हूँ ?

उसी समय आपने यह साखी कही -
गला काटकर बिसमिल करें, ते काफिर बेबूझ।
औरन को काफिर कहै, अपनी कुफ़्र न सूझ।।

[ भारत-दर्शन संकलन]

 

 
 

Comment using facebook

 
 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
 
 
  Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.

भारत-दर्शन रोजाना

Bharat-Darshan Rozana

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें