यह कैसे संभव हो सकता है कि अंग्रेजी भाषा समस्त भारत की मातृभाषा के समान हो जाये? - चंद्रशेखर मिश्र।

मृदुला गर्ग | Mridula Garg

मृदुला गर्ग (Mridula Garg) हिंदी की सर्वाधिक लोकप्रिय लेखिकाओं में से एक हैं।

आपका जन्म  25 अक्तूबर, 1938 कोलकाता में हुआ।

मृदुला जी ने अर्थशास्त्र में एम. ए किया किंतु आपका रुझान हिंदी महिंदी साहित्य में रहा ।

कुछ प्रमुख कृतियाँ:

कठगुलाब, चित्तकोबरा, उसके हिस्से की धूप, अनित्य, मैं और मैं (सभी उपन्यास) कहानियाँ और निबन्ध भी।

Author's Collection

Total Number Of Record :1

यहाँ क्षण मिलता है

हम सताए, खीजे, उकताए, गड्ढों-खड्ढों, गंदे परनालों से बचते, दिल्ली की सड़क पर नीचे ज़्यादा, ऊपर कम देखते चले जा रहे थे, हर दिल्लीवासी की तरह, रह-रहकर सोचते कि हम इस नामुराद शहर में रहते क्यों हैं ? फिर करिश्मा ! एक नज़र सड़क से हट दाएँ क्या गई, ठगे रह गए। दाएँ रूख फलाँ-फलाँ राष्ट्रीय बैंक था। नाम के नीचे पट्ट पर लिखा था, यहाँ क्षण मिलता है। वाह ! बहिश्त उतर ज़मी पर आ लिया। यह कैसा बैंक है जो रोकड़ा लेने-देने के बदले क्षण यानी जीवन देता है? क्षण-क्षण करके दिन बनता है, दिन-दिन करके बरसों-बरस यानी ज़िंदगी। आह, किसी तरह एक क्षण और मिल जाए जीने को।

...

More...
Total Number Of Record :1

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश