हिंदी का काम देश का काम है, समूचे राष्ट्र निर्माण का प्रश्न है। - बाबूराम सक्सेना

निदा फ़ाज़ली के दोहे

 (काव्य) 
Print this  
रचनाकार:

 निदा फ़ाज़ली

बच्चा बोला देख कर मस्जिद आली-शान ।
अल्लाह तेरे एक को इतना बड़ा मकान ।।

मैं रोया परदेस में भीगा माँ का प्यार ।
दुख ने दुख से बात की बिन चिट्ठी बिन तार ।।

घर को खोजें रात दिन घर से निकले पाँव ।
वो रस्ता ही खो गया जिस रस्ते था गाँव ।।

नक़्शा ले कर हाथ में बच्चा है हैरान ।
कैसे दीमक खा गई उस का हिन्दोस्तान ।।

सीधा-साधा डाकिया जादू करे महान ।
एक ही थैले में भरे आँसू और मुस्कान ।।

वो सूफ़ी का क़ौल हो या पंडित का ज्ञान ।
जितनी बीते आप पर उतना ही सच मान ।।

मैं भी तू भी यात्री चलती रुकती रेल ।
अपने अपने गाँव तक सब का सब से मेल ।।

पंछी, मानव, फूल, जल, अलग-अलग आकार ।
माटी का घर एक ही, सारे रिश्तेदार ।।

अन्दर मूरत पर चढ़े घी, पूरी, मिष्टान ।
मंदिर के बाहर खड़ा, ईश्वर माँगे दान ।।

- निदा फ़ाज़ली

Back
 
Post Comment
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश