हिंदी भाषा को भारतीय जनता तथा संपूर्ण मानवता के लिये बहुत बड़ा उत्तरदायित्व सँभालना है। - सुनीतिकुमार चाटुर्ज्या।

सौदागर ईमान के

 (काव्य) 
Print this  
रचनाकार:

 शैल चतुर्वेदी | Shail Chaturwedi

आँख बंद कर सोये चद्दर तान के,
हम ही हैं वो सेवक हिन्दुस्तान के ।

बहते-बहते पार लगे हैं हम चुनाव की बाढ़ में,
स्वतंत्रता को पकड़ रखा है हमने अपनी दाढ़ में ।
हीरे औ' माणिक हैं हम ही प्रजातंत्र की खान के
कोई कहता काम चाहिए, कोई कहता रोटी दो,
कोई नंगा खड़ा सामने कहता हमें लंगोटी दो ।
सुनते-सुनते हाय हो गये बहरे दोनों कान के ।

चार साल दिल्ली में काटे, बाकी जन-सम्पर्क में,
सारी शक्ति लगा देते है, अपनी पंचम वर्ष में ।
गरज-गरज कर भाषण देते हम बादल-तूफान के ।

कब किससे मांगा हमने, देनेवाले दे जाते हैं,
दे कर बहती गगा में, नैय्या अपनी खे जाते हें,
रामराज के जादूगर, हम सौदागर ईमान के ।।

-शैल चतुर्वेदी

साभार: भारतीय मूर्ख शिरोमणी १९७५

 

Back
 
Post Comment
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश