विदेशी भाषा के शब्द, उसके भाव तथा दृष्टांत हमारे हृदय पर वह प्रभाव नहीं डाल सकते जो मातृभाषा के चिरपरिचित तथा हृदयग्राही वाक्य। - मन्नन द्विवेदी।

कुंअर बेचैन ग़ज़ल संग्रह

 (काव्य) 
Print this  
रचनाकार:

 कुँअर बेचैन

कुंअर बेचैन ग़ज़ल संग्रह - यहाँ डॉ० कुँअर बेचैन की बेहतरीन ग़ज़लियात संकलित की गई हैं। विश्वास है आपको यह ग़ज़ल-संग्रह पठनीय लगेगा।

Back
More To Read Under This
अपना जीवन.... | ग़ज़ल
कोई फिर कैसे.... | ग़ज़ल
दिल पे मुश्किल है....
दो-चार बार... | ग़ज़ल
करो हम को न शर्मिंदा..
 
Post Comment
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें