हिंदी का काम देश का काम है, समूचे राष्ट्र निर्माण का प्रश्न है। - बाबूराम सक्सेना

दोहे और सोरठे

 (काव्य) 
Print this  
रचनाकार:

 भारतेन्दु हरिश्चन्द्र | Bharatendu Harishchandra

है इत लाल कपोल ब्रत कठिन प्रेम की चाल।
मुख सों आह न भाखिहैं निज सुख करो हलाल॥

प्रेम बनिज कीन्हो हुतो नेह नफा जिय जान।
अक प्यारे जिय की परी प्रान-पुँजी में हान॥

तेरोई दरसन चहैं निस-दिन लोभी नैन ।
श्रवन सुनो चाहत सदा सुन्दर रस-मै बैन ।।

डर न मरन बिधि बिनय यह भूत मिलैं निज बास ।
प्रिय हित वापी मुकुर मग बीजन अँगन अकास ।।

तन-तरु चढ़ि रस चूसि सब फूली-फली न रीति ।
प्रिय अकास-बेली भई तुव निर्मूलक प्रीति ।।

पिय पिय रटि पियरी भई पिय री मिले न आन ।
लाल मिलन की लालसा लखि तन तजत न प्रान ।।

मधुकर घुन गृह दंपती पन कीने मुकताय ।
रमा विना यक बिन कहै गुन बेगुनी सहाय ।।

चार चार षट षट दाऊ अस्टादस को सार ।
एक सदा द्वै रूप धर जै जै नंदकुमार ।।

- भारतेन्दु हरिश्चंद्र

[ भारतेन्दु हरिश्चंद्र के दुर्लभ दोहे व सोरठे ]

 

Back
 
Post Comment
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश