भारतीय साहित्य और संस्कृति को हिंदी की देन बड़ी महत्त्वपूर्ण है। - सम्पूर्णानन्द।

भारत-दर्शन संकलन

 (बाल-साहित्य ) 
Print this  
रचनाकार:

 अकबर बीरबल के किस्से

प्राचीनकाल के राजदरबारों में सब प्रकार के गुणियों का सम्मान किया जाता था। बादशाह अकबर के दरबार में बीरबल अपनी विनोदप्रियता व कुशाग्रबुद्धि के लिए जाने जाते थे। अकबरी राजसभा के नौरत्नों में बीरबल कोहेनूर हीरा कहे जा सकते हैं।

बीरबल व अकबर का लड़कपन से साथ था। बीरबल केवल एक हँसोड़े मात्र न होकर अच्छे शूरवीर, सामन्त, कवि, पंडित और सभाचातुर नरवीर थे। बीरबल बड़े दयालु व दानवीर होने के साथ-साथ बहुत हाजिरजवाब थे।

यहाँ अकबर-बीरबल के रोचक किस्सों को संकलित किया गया है।

Back
More To Read Under This
बीरबल की खिचड़ी
मासूम सज़ा
सही और गलत के बीच का अंतर
बीरबल की पैनी दृष्टि
चूड़ियों की गिनती | अकबर बीरबल के किस्से
चारों मूर्ख हाजिर हैं | अकबर बीरबल के किस्से
छोटा बांस, बड़ा बांस
किस नदी का पानी सबसे अच्छा
 
Post Comment
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें