यह कैसे संभव हो सकता है कि अंग्रेजी भाषा समस्त भारत की मातृभाषा के समान हो जाये? - चंद्रशेखर मिश्र।

डॉ रामनिवास मानव के हाइकु

 (काव्य) 
Print this  
रचनाकार:

 डॉ रामनिवास मानव | Dr Ramniwas Manav

डॉ. 'मानव' हाइकु, दोहा, बालकाव्य तथा लघुकथा विधाओं के सुपरिचित राष्ट्रीय हस्ताक्षर हैं तथा विभिन्न विधाओं में लेखन करते हैं। उनके कुछ हाइकु यहाँ दिए जा रहे हैं:

१)

मोटी कमाई;
देश तो है बकरा,
नेता कसाई ।


२)

धक्कमपेल,
चल रहा देश में
कुर्सी का खेल ।


३)

पहनी खादी,
तिजोरी भरने की
मिली आजादी ।


४)

चेहरों पर
मुखौटे-ही-मुखौटे,
मैं-तुम कौन ?


५)

हिन्दू-मुस्लिम,
जैन-बोद्ध-ईसाई,
किसके भाई !


६)

हिंसा का दौर,
शहरों में बसते
आदमख़ोर ।

 

७)

सौ-सौ फ़क़ीर,
लेकिन है एक भी
नहीं कबीर ।

 

८)

कैसी दलील !
जज तो हैं बहरे,
अंधे वकील ।

 

९)

काम न धंधा
गले में ग़रीब के
भूख का फंदा ।

 

१०)

फटी कमीज़
उधड़े सब धागे;
क्या होगा आगे !

 

- डा. रामनिवास मानव

 

Back
 
Post Comment
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश