हिंदी का काम देश का काम है, समूचे राष्ट्र निर्माण का प्रश्न है। - बाबूराम सक्सेना

हम होंगे कामयाब

 (काव्य) 
Print this  
रचनाकार:

 गिरिजाकुमार माथुर | Girija Kumar Mathur

हम होंगे कामयाब, हम होंगे कामयाब
हम होंगे कामयाब एक दिन
ओ हो मन में है विश्वास, पूरा है विश्वास,
हम होंगे कामयाब एक दिन॥

हम चलेंगे साथ-साथ, डाल हाथों में हाथ
हम चलेंगे साथ-साथ एक दिन
ओ हो, मन में है विश्वास, पूरा है विश्वास
हम चलेंगे साथ-साथ एक दिन॥

होगी शांति चारों ओर, होगी शांति चारों ओर
होगी शांति चारों ओर एक दिन
मन में है विश्वास, पूरा है विश्वास
होगी शांति चारों ओर एक दिन॥

नहीं डर किसी का आज, नहीं डर किसी का आज
नहीं डर किसी का आज के दिन
ओ हो, मन में है विश्वास, पूरा है विश्वास
नहीं डर किसी का आज के दिन॥

ओ हो मन में है विश्वास, पूरा है विश्वास,
हम होंगे कामयाब एक दिन॥

साभार - अभियान गीत

Girijakumar Mathur's poem, "Hum Honge Kaamyab Ek Din' is a literal translation of English song ‘We Shall Overcome'.

 

Back
 
Post Comment
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश