हिंदुस्तान की भाषा हिंदी है और उसका दृश्यरूप या उसकी लिपि सर्वगुणकारी नागरी ही है। - गोपाललाल खत्री।

सुन के ऐसी ही सी एक बात

 (काव्य) 
Print this  
रचनाकार:

 शमशेर बहादुर सिंह

[हिन्दी साहित्यि हों में गुटबन्दी के एक घृणित रूप की प्रतिक्रिया]

क्या यही होगा जवाब एक कलाकार के पास 
रक्खा जाएगा क़लम जूती ओ पैज़ार के पास 
क्या यही जोड़े हैं संस्कार के संस्कार के पास 
यही संकेत है साहित्य के व्यापार के पास 
सुनके ऐसी ही-सी इक बात...... 
कहूँ क्या, बस, अब। 
दुःख औ' कष्ट से मैं सोच रहा था यह सब!

नये मानों की, नये शिल्प, नये चेतन की 
नये युग-लोक में क्या अब यही व्याख्या होगी?
 जो कला कहती थी 'जय होगी तो होगी मेरी!' 
आज अधरों प' है उसके ही य' बोली कैसी!! 
इन बड़ों का नहीं साहित्य का सर झुकता है। 
'अपने' पाठक के हैं ये सोचते--दम रुकता है!

देवताओ मेरे साहित्य के युग-युग के, सुनो : 
साधनाओं की परम शक्तियो, इतना वर दो—
(अपने भक्तों की चरणधूलि जो समझो मुझको) 
एक क्षण भी मेरा व्यय ऐसों की संगत में न हो! 
एक वरदान यही दो जो हो दया मुझपर : 
स्वप्न में भी न पड़े ऐसों की छाया मुझपर!

--शमशेर बहादुर सिंह 

Back
 
Post Comment
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश