परमात्मा से प्रार्थना है कि हिंदी का मार्ग निष्कंटक करें। - हरगोविंद सिंह।

पथिक

 (काव्य) 
Print this  
रचनाकार:

 मोहनलाल महतो वियोगी

पथिक हूँ,— बस, पथ है घर मेरा। 
बीत गए कितने युग चलते किया न अब तक डेरा। 
नित्य नया बनकर मिलता है, वही पुराना साथी, 
निश्चित सीमा के भीतर ही लगा रहा हूँ फेरा। 
हैं गतिमान सभी जड़-चेतन, थिर है कौन बता दे? 
क्षण, दिन, मास, वर्ष, ऋतु, यौवन, जीवन, विभा अँधेर 
दर्शन - पात्र एक ही जन है, क्षण क्षण रूप बदलता, 
इस नाटक में बस दो पट हैं, संध्या और सवेरा। 
"इसके बाद और भी कुछ है " यही बताकर आशा, 
लेने देती नहीं तनिक भी, मन को कहीं बसेर । 
ममते! देख दिवस ढलता है, घन घनघोर उठे हैं, 
बतला दूर यहाँ से क्या है अभी नगर वह तेरा? 
पथिक हूँ— बस, पथ है घर मेरा—

-मोहनलाल महतो 'वियोगी'

Back
 
Post Comment
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश