विदेशी भाषा का किसी स्वतंत्र राष्ट्र के राजकाज और शिक्षा की भाषा होना सांस्कृतिक दासता है। - वाल्टर चेनिंग

चिड़िया | कविता

 (काव्य) 
Print this  
रचनाकार:

 शरद जोशी | Sharad Joshi

'च' ने चिड़िया पर कविता लिखी। 
उसे देख 'छ' और 'ज' ने चिड़िया पर कविता लिखी। 
तब त, थ, द, ध, न, ने 
फिर प, फ, ब, भ और म, ने 
'य' ने, 'र' ने, 'ल' ने 
इस तरह युवा कविता की बारहखड़ी के सारे सदस्यों ने 
चिड़िया पर कविता लिखी। 

चिड़िया बेचारी परेशान 
उड़े तो कविता 
न उड़े तो कविता। 

तार पर बैठी हो या आँगन में 
डाल पर बैठी हो या मुंडेर पर 
कविता से बचना मुश्किल 
मारे शरम मरी जाए। 

एक तो नंगी, 
ऊपर से कवियों की नज़र 
क्या करे, कहाँ जाए 
बेचारी अपनी जात भूल गई 
घर भूल गई, घोंसला भूल गई। 
 
कविता का क्या करे 
ओढ़े कि बिछाए, फेंके कि खाए 
मरी जाए कविता के मारे 
नासपीटे कवि घूरते रहें रात-दिन। 

एक दिन सोचा चिड़िया ने 
कविता में ज़िंदगी जीने से तो मौत अच्छी 
मर गई चिड़िया 
बच गई कविता। 
कवियों का क्या, 
वे दूसरी तरफ़ देखने लगे। 

Back
 
Post Comment
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश