राष्ट्रीय एकता की कड़ी हिंदी ही जोड़ सकती है। - बालकृष्ण शर्मा 'नवीन'

डॉ भावना कुँअर के हाइकु

 (काव्य) 
Print this  
रचनाकार:

 भावना कुँअर | ऑस्ट्रेलिया

अकेला बीज
धरती से मिलके 
फूटा खिलके।

बढ़ने लगा 
बनकर वो पौधा
खिलने लगा।

जैसे ही चढ़ा
यौवन-दहलीज़
आँख में गड़ा।

निर्मम हाथ
काटने चल पड़े
आरी ले साथ।

सहता रहा
‘मत काटो मुझको’-
कहता रहा।

नहीं पसीजे 
बेरहम मानव
किया तांडव।

न रुके हाथ
यूँ ही करते गए
घात पे घात।

हरा वो पेड़
पल भर में बना
घास का ढेर।

दूर जा गिरा
पंछियों का घरौंदा
छितरा पड़ा।

सुन न सका
पंछियों का क्रन्दन
पाहन मन।

बिसरी राह
ठंडी पवन अब
कोई न चाह।

छाया उदास
भटके यहाँ वहाँ
पेड़ न साथ।

मुँह फुलाए
घूमता घर-घर 
दुःखी बादल।

खोजता फिरे
रुआँसा-सा पथिक
है मित्र कहाँ?

डॉ भावना कुँअर
संपादक, ऑस्ट्रेलियांचल
ऑस्ट्रेलिया
ई-मेल: bhawnak2002@gmail.com

Back
 
Post Comment
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश