इस विशाल प्रदेश के हर भाग में शिक्षित-अशिक्षित, नागरिक और ग्रामीण सभी हिंदी को समझते हैं। - राहुल सांकृत्यायन।

खयालों की जमीं पर... | ग़ज़ल

 (काव्य) 
Print this  
रचनाकार:

 संध्या नायर | ऑस्ट्रेलिया

खयालों की जमीं पर मैं हकीकत बो के देखूंगी
कि तुम कैसे हो, ये तो मैं ,तुम्हारी हो के देखूंगी

तुम्हारे दिल सरीखा और भी कुछ है, सुना मैंने
किसी पत्थर की गोदी में मैं सर रख, सो के देखूंगी

है नक्शा हाथ में लेकिन भटकने का इरादा है
तुम्हारे शहर को मैं आज थोड़ा खो के देखूंगी

बड़ी जिद्दी है ये बदली, नहीं गुजरेगी बिन बरसे
ये कहती है तुम्हारे साथ मैं भी रो के देखूंगी

हुई धुंधली नज़र ऐसी कि कम दिखते हो ख्वाबों में
किसी शब नींद से आंखें मैं अपनी धो के देखूंगी

खुदा कहते हैं क्यों तुमको ये ज़ाहिर क्यों नहीं होता
तुम्हारे नाम की सारी सलीबें ढो के देखूंगी

- संध्या नायर, ऑस्ट्रेलिया

Back
 
Post Comment
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश