परमात्मा से प्रार्थना है कि हिंदी का मार्ग निष्कंटक करें। - हरगोविंद सिंह।

तलाश जारी है...

 (काव्य) 
Print this  
रचनाकार:

 आराधना झा श्रीवास्तव

स्वदेस में बिहारी हूँ, परदेस में बाहरी हूँ
जाति, धर्म, परंपरा के बोझ तले दबी एक बेचारी हूँ।
रंग-रूप,नैन-नक्श, बोल-चाल, रहन-सहन
सब प्रभावित, कुछ भी मौलिक नहीं।
एक आत्मा है, पर वह भौतिक नहीं।
जो न था मेरा, जो न हो मेरा
फिर किस बहस में उलझें सब
कि ये है मेरा और ये तेरा।
जब तू कौन है ये नहीं जानता,
खुद को ही नहीं पहचानता,
कहां से आया और कहां चला जाएगा
साथ कुछ भी नहीं, सब पीछे छूट जाएगा।
जो छूट जाएगा, तेरे काम नहीं आएगा
फिर वो क्या है जो तेरी पहचान है,
जिसमें अटकी तेरी जान है।
वह देह से परे, भावनाओं का एक जाल है
जिससे रहित तेरी काया एक कंकाल है।
पर क्या तू कभी इनका मोल कर पाया
टुकड़ों में बंटी अपनी पहचान को समेट पाया
तू कौन है ये अगर जान ले
ख़ुद को अगर पहचान ले
तो एक मुलाकात मेरी भी करवाना
क्योंकि…
खुद को पहचानने की
मेरी तलाश अब भी जारी है…
तलाश जारी है…

-आराधना झा श्रीवास्तव, सिंगापुर

Back
 
Post Comment
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश