जब हम अपना जीवन, जननी हिंदी, मातृभाषा हिंदी के लिये समर्पण कर दे तब हम किसी के प्रेमी कहे जा सकते हैं। - सेठ गोविंददास।

राम 

 (काव्य) 
Print this  
रचनाकार:

 आशीष मिश्रा | इंग्लैंड

  लिखने को कुछ और चला था
                   स्वतः कलम ने राम लिखा
    र पर आ की एक मात्रा
                   म मिल कर निष्काम लिखा

    अक्षर दोनों नाच रहे थे 
                 ख़ुद को अव्वल आँक रहे
    सचमुच दोनों ने मानो 
                  बजरंगी का प्रणाम लिखा 

    शब्द बना जो वही पुरातन
                  नये पृष्ठ पर नया आयतन
    जितनी बार पढ़ा उसको
                  दोनों  आखर  राम  दिखा

    फिर क्या था बस वही हुआ
                 कुछ और जो लिखता नहीं हुआ
    हृदय भरा पर रहा अधूरा
                  शब्द  अयोध्या  धाम  लिखा

    ऐसा एक हुआ उजियारा
                   नयी लहर को मिला किनारा
    कलम बनी पतवार हो जैसे
                  भावों  का  परिणाम  लिखा

    रा  पर  वाल्मीक  सोहे 
                    म  पर  तुलसी  के  दोहे
    सुबह शब्द वो ॐ लगा
                लिखा दोपहर शाम लिखा

    लिखने को कुछ और चला था
                  स्वतः कलम ने राम लिखा

-आशीष मिश्रा, इंग्लैंड

Back
 
Post Comment
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें