मुस्लिम शासन में हिंदी फारसी के साथ-साथ चलती रही पर कंपनी सरकार ने एक ओर फारसी पर हाथ साफ किया तो दूसरी ओर हिंदी पर। - चंद्रबली पांडेय।

राजकुमार की प्रतिज्ञा | Rajkumar Ki Pritigya

 (बाल-साहित्य ) 
Print this  
रचनाकार:

 यशपाल जैन | Yashpal Jain

यशपाल ने अनेक बालोपयोगी कहानियां लिखी, पर उपन्यास नहीं लिखा था। अचानक उन्हें आभास हुआ कि बच्चों के लिए उपन्यास भी लिखना चाहिए और उनकी लेखनी उस दिशा में चल पड़ी। लगभग सवा महीने में यह रचना पूरी हो गई।

उपन्यास इतना रोचक है कि बच्चे इसे एक बार पढ़ना आरम्भ करेंगे तो बिना समाप्त किये छोड़ नहीं सकेंगे। वस्तुत: लेखक की भाषा बड़ी सहज-सरल है और शैली में अपने ढंग का अनोखा प्रवाह है। यद्यपि इसे उन्होंने मुख्यत: बच्चे के लिए लिखा है, तथापि बड़े पढ़ेंगे तो उन्हें भी आनंद आये बिना नहीं रहेगा। कहानी लेखक ने ऐसी चुनी है, जो छोटे-बड़े सबके लिए आकर्षक है।

 

Back
More To Read Under This
राजकुमार की प्रतिज्ञा - भाग १
राजकुमार की प्रतिज्ञा - भाग 2
राजकुमार की प्रतिज्ञा - भाग 3
 
Post Comment
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश