हिंदी का पौधा दक्षिणवालों ने त्याग से सींचा है। - शंकरराव कप्पीकेरी

याचना | कविता

 (काव्य) 
Print this  
रचनाकार:

 कन्हैयालाल नंदन (Kanhaiya Lal Nandan )

मैंने पहाड़ से माँगा :
अपनी स्थिरता का थोड़ा-सा अंश मुझे दे दो
पहाड़ का मन न डोला ।

मैंने झरने से कहा :
दे दो थोड़ी-सी अपनी गति मुझे भी
झरना अपने नाद में मस्त रहा
कुछ न बोला।

मैंने दूब से माँगी थोड़ी-सी पवित्रता व
ह अपने दलों में मुस्कराती रही।
मैंने फूलों से माँगी ज़रा-सी कोमलता
और चिड़िया से
उसका चुटकी भर आकाश
लहरों से थोड़ी-सी चंचल तरलता
धूप से एक टुकड़ा उजास ।

ओक में भरने को खड़ा रहा देर तक
कहीं से कुछ न पाया
याचना अकारथ जाते देख
आहत मन लौट आया
तरस खाया हवा ने
हौले से कान में बोली :
नाहक हो उदास
अपने लिए माँगने से बाहर निकलो
निश्छल, सहज हो जाओ
यह सब प्रचुर है तुम्हारे पास ।
माँगने से कुछ नहीं मिलेगा
देने से पाओगे,
जितना ही हरियाली बाँटोगे
अंदर हरे हो जाओगे।

-कन्हैयालाल नंदन

Back
 
Post Comment
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश