हिंदी भाषा को भारतीय जनता तथा संपूर्ण मानवता के लिये बहुत बड़ा उत्तरदायित्व सँभालना है। - सुनीतिकुमार चाटुर्ज्या।

मातृ-मन्दिर

 (काव्य) 
Print this  
रचनाकार:

 मैथिलीशरण गुप्त | Mathilishran Gupt

भारतमाता का यह मन्दिर, समता का संवाद यहाँ,
सबका शिव-कल्याण यहाँ है, पावें सभी प्रसाद यहाँ।
नहीं चाहिये बुद्धि वैरकी, भला प्रेम-उन्माद यहाँ,
कोटि-कोटि कण्ठों से मिलकर,उठे एक जयनाद यहाँ ।
जाति,धर्म या सम्प्रदाय का, नहीं भेद-व्यवधान यहाँ,
सबका स्वागत सबका आदर, सबका सम-सम्मान यहाँ।
राम-रहीम, बुद्ध-ईसा का, सुलभ एक सा ध्यान यहाँ,
भिन्न-भिन्न भव-संस्कृतियों के गुण-गोख का ज्ञान यहाँ ।
सब तीर्थो का एकतीर्थ यह, हृदय पवित्र बना लें हम,
आओ यहाँ अजातशत्रु बन, सबको मित्र बना लें हम।
रेखाएं प्रस्तुत हैं अपने, मन के चित्र बना लें हम,
सौ-सौ आदर्शों को लेकर, एक चरित्र बना लें हम।
मिला सत्य का हमें पुजारी, सफल काम उस न्यायी का,
मुक्तिलाभ कर्तव्य यहाँ है, एक-एक अनुयायी का ।
बैठो माता के आँगन में, नाता भाई-भाई का,
समझे उसकी प्रसव वेदना, वही लाल है माई का।

- मैथिलीशरण गुप्त

 

Back
 
Post Comment
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश