यह कैसे संभव हो सकता है कि अंग्रेजी भाषा समस्त भारत की मातृभाषा के समान हो जाये? - चंद्रशेखर मिश्र।

कभी तुम दूर जाते हो | ग़ज़ल

 (काव्य) 
Print this  
रचनाकार:

 भावना कुँअर | ऑस्ट्रेलिया

कभी तुम दूर जाते हो, कभी तुम पास आते हो
कभी हमको हँसाते हो, कभी हमको रुलाते हो

हमारे दिल के हर कोने में, रहते हो अगर तुम ही
उसे ही तोड़ते हो क्यूँ, जहाँ तुम घर बनाते हो।

बड़ी ऊँचाई पे मंज़िल थी पहुँची मुश्किलों से मैं
जरा अब साँस लेने दो अभी से क्यूँ गिराते हो

मैं सोती हूँ बड़ी गहरी, मुझे अब नींद आई है
रही बरसों जगी थी मैं, भला अब क्यूँ उठाते हो

मेरे जाने से होते हो, भला बेचैन क्यूँ इतने
जहाँ से लौट ना पाऊँ, वहाँ से क्यूँ बुलाते हो

ये मेरी कब्र है मुझको नहीं भाती कोई खुशबू
तो फूलों से बनी चादर, को इस पे क्यूँ चढ़ाते हो

-डॉ० भावना कुँअर
 सिडनी (ऑस्ट्रेलिया)

Back
 
Post Comment
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश