जब हम अपना जीवन, जननी हिंदी, मातृभाषा हिंदी के लिये समर्पण कर दे तब हम किसी के प्रेमी कहे जा सकते हैं। - सेठ गोविंददास।

भाई दूज

 (काव्य) 
Print this  
रचनाकार:

 रोहित कुमार 'हैप्पी' | न्यूज़ीलैंड

भैया दूज

भाई-बहन का यह त्योहार
इसमें छुपा हुआ है प्यार।

इक-दूजे पर करते नाज़
भैया दूज आ गयी आज।

माथे पर चन्दन का टीका
बहन बिना सब होता फीका।

भैया तुझको तिलक लगा दूँ
चन्दा-सूरज तुझे दिला दूँ।

यह रिश्तों की है सौग़ात
याद रहे अम्मा की बात।

- रोहित कुमार 'हैप्पी'

 

Back
 
Post Comment
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें