हिंदी भाषा को भारतीय जनता तथा संपूर्ण मानवता के लिये बहुत बड़ा उत्तरदायित्व सँभालना है। - सुनीतिकुमार चाटुर्ज्या।

जयप्रकाश मानस की दो बाल-कविताएं

 (बाल-साहित्य ) 
Print this  
रचनाकार:

 जयप्रकाश मानस | Jaiprakash Manas

एक बनेंगे

हम हैं बच्चे
मन के सच्चे
आगे कदम बढ़ाएंगे,
भूले भटके
राह में अटके
सबको राह दिखाएंगे
नहीं लड़ेंगे
एक बनेंगे
मिलकर 'जन गण' गाएंगे
नहीं डरेंगे
टूट पड़ेंगे
न संकट से घबराएंगे।

-जयप्रकाश मानस


#


गिनकर तो दिखाओ

खेत-खार में कितने मेड़
इस जंगल में कितने पेड़
ठीक-ठीक बताओ
गिनकर तो दिखाओ।

सूरज में हैं कितनी किरने
हैं धरती में कितने झरने
पता जरा लगाओ
गिनकर तो दिखाओ।।

कितने तारे आसमान में
खेल कितने इस जहान में
चलो-चलो सुनाओ
गिनकर तो दिखाओ।।

-जयप्रकाश मानस
[जयप्रकाश मानस की बाल कविताएं, यश पब्लिशर्स एंड डिस्ट्रीब्यूटर्स दिल्ली]

Back
 
Post Comment
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश