मुस्लिम शासन में हिंदी फारसी के साथ-साथ चलती रही पर कंपनी सरकार ने एक ओर फारसी पर हाथ साफ किया तो दूसरी ओर हिंदी पर। - चंद्रबली पांडेय।
माँ की याद बहुत आती है ! (काव्य)    Print this  
Author:डॉ शम्भुनाथ तिवारी

माँ की याद बहुत आती है !

जिसने मेरे सुख - दुख को ही ,
अपना सुख-दुख मान लिया था ।
मेरी खातिर जिस देवी ने,
बार - बार विषपान किया था ।
स्नेहमयी ममता की मूरत,
अक्सर मुझे रुला जाती है ।
माँ की याद बहुत आती है !

दिन तो प्यार भरे गुस्से में,
लोरी में कटती थीं रातें ।
उसका प्यार कभी ना थकता,
सरदी - गरमी या बरसातें ।
उस माँ की वह मीठी लोरी,
अब भी मुझे सुला जाती है ।
माँ की याद बहुत आती है !

माँ, तेरे आँचल का साया,
क्यों ईश्वर ने छीन लिया है ?
पल-पल सिसक रहा हूँ जबसे,
तूने स्नेह-विहीन किया है ।
तुमसे जितना प्यार मिला,
वह मेरे जीवन की थाती है ।
माँ की याद बहुत आती है !

बचपन, वह कैसा बचपन है,
माँ की छाँव बिना जो बीता !
माँ जितना सिखला देती है,
कहाँ सिखा सकती है गीता !
माँ के बिन सब सूना जैसे,
तेल बिना दीपक - बाती है ।
माँ की याद बहुत आती है !


- डॉ. शम्भुनाथ तिवारी
  प्रोफेसर
  हिंदी विभाग,
  अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी,
  अलीगढ़(भारत)
  संपर्क-09457436464
  ई-मेल: sn.tiwari09@gmail.com

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश