हिंदी चिरकाल से ऐसी भाषा रही है जिसने मात्र विदेशी होने के कारण किसी शब्द का बहिष्कार नहीं किया। - राजेंद्रप्रसाद।
उसे कुछ मिला, नहीं | बाल कविता (बाल-साहित्य )    Print this  
Author:रोहित कुमार 'हैप्पी' | न्यूज़ीलैंड

कूड़े के ढेर से
कुछ चुनते हुए बच्चे को देख
एक चित्रकार ने
करूणामय चित्र बना डाला।

कवि ने
एक मार्मिक रचना
रच डाली ।

एक कहानीकार ने
'उसी बच्चे' पर
कालजयी
कहानी कही ।

जनता ने
प्रदर्शनी में चित्र,
मंच पर कविता,
और
पत्रिका में छपी
कहानी को ख़ूब सराहा ।

पर उस बच्चे ने चित्र, कविता और कहानी से क्या पाया?

वो अब भी लगा है...
वहीं कूड़े के ढेर से कुछ खोजने में ।

उसे कुछ मिला, नहीं !!!

- रोहित कुमार 'हैप्पी'

Previous Page  |  Index Page
 
Post Comment
 
 
 

भारत-दर्शन रोजाना

Bharat-Darshan Rozana

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें