यह कैसे संभव हो सकता है कि अंग्रेजी भाषा समस्त भारत की मातृभाषा के समान हो जाये? - चंद्रशेखर मिश्र।
मदिरा ढलने पर | कविता (काव्य)    Print this  
Author:हरिहर झा | ऑस्ट्रेलिया | Harihar Jha

 

नजरों से गश आया साकी
मदिरा ढलने पर क्या होगा।

प्यास बुझाने पानी मांगा
अमृत की अब चाह नहीं

नन्हा दीपक साथ मे हो
आवश्यक जगमग राह नहीं

मौत आये यों सजधज कर
फिर र्स्वगलोक मे क्या होगा

नजरों से गश आया साकी
मदिरा ढलने पर क्या होगा।

दुनिया मे नहीं कोई पराया
सब के सब अपने देखे

सबकी यादें मीठी मीठी
फिर मिलने के सपने देखे

क्या खूब लुभाती मृगतृष्णा
तृप्ति मिलने पर क्या होगा

नजरों से गश आया साकी
मदिरा ढलने पर क्या होगा।

निंदक नियरे पानी बन कर
चित साफ करें धोयंे विकार

शत्रु भी कर दें सावधान
हों पग बढ़ने को जब तैयार

खलनायक मे जब राम छिपा
प्रभु प्रगट हुये तो क्या होगा

नजरों से गश आया साकी
मदिरा ढलने पर क्या होगा।

कांटे भी रक्षा करने को
तैयार खड़े हैं होशियार

फूलों का उपवन क्यों चाहूं
हर कलि सुगंधित है अपार

जुगनू की जगमग अति सुन्दर
पूनम की रात मे क्या होगा

नजरों से गश आया साकी
मदिरा ढलने पर क्या होगा।

- हरिहर झा

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश