हिंदी का पौधा दक्षिणवालों ने त्याग से सींचा है। - शंकरराव कप्पीकेरी
कैदी कविराय की कुंडलिया  (काव्य)    Print this  
Author:अटल बिहारी वाजपेयी | Atal Bihari Vajpayee

गूंजी हिन्दी विश्व में स्वप्न हुआ साकार,
राष्ट्रसंघ के मंच से हिन्दी का जैकार।
हिन्दी का जैकार हिन्द हिन्दी में बोला,
देख स्वभाषा-प्रेम विश्व अचरज में डोला।
कह कैदी कविराय मेम की माया टूटी,
भारतमाता धन्य स्नेह की सरिता फूटी।।

#

बनने चली विश्वभाषा जो अपने घर में दासी,
सिंहासन पर अंग्रेजी को लखकर दुनिया हांसी।
लखकर दुनिया हाँसी हिन्दी वाले हैं चपरासी,
अफसर सारे अंग्रेजीमय अवधी हों मद्रासी।
कह कैदी कविराय विश्व की चिन्ता छोड़ो,
पहले घर में अँग्रेज़ी के गढ़ को तोड़ो।

- अटल बिहारी वाजपेयी

 

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश