राष्ट्रीय एकता की कड़ी हिंदी ही जोड़ सकती है। - बालकृष्ण शर्मा 'नवीन'
श्रोताओं की फब्तियां (काव्य)    Print this  
Author:काका हाथरसी | Kaka Hathrasi

कवियों की पंक्तियां, श्रोताओं की फब्तियां :

० कारवां गुजर गया, गुबार देखते रहे...... (नीरज)
( तो हम क्या करें, टाइम पर क्यों नहीं आए आप ? )

० जी हां हज़ूर ! मैं गीत बेचता हूं...... (भ० प्र० मिश्र)
( बेचिए जरूर, लेकिन बिक्रीकर का लाइसेंस ले लीजिए हजूर !)

० जाओ, पर संध्या के संग लौट आना तुम...... (सोम ठाकुर )
(शंध्यारानी तो शूटिंग पर गई हैं शोम शाहेब ! )

० भगवान मुझे तुम साली दो...... (गो० प्र० व्यास)
( क्या करोगे ? एक ही बहुत है गुरु !)

० वियोगी होगा पहला कवि...... (पंत जी)
(वियोगी हरि से भी पहले कई कवि हो चुके हैं जी !)

० मशाल जलाओ, बड़ा अंधेरा है...... (शि० मं० सि० सुमन )
(ब्लैक आउट है सुमन जी ! )

० प्रिय, एक बार तुम आ जाओ तो आंचल भर सुहाग ओढूँ...... (माया)
( वे नहीं आएंगे, ओढ़ने को कम्बल भेज दिया है !)

० इस पार प्रिये मधु है, तुम हो, उस पार न जाने क्या होगा...... ( बच्चन )
( बुढ़ापा होगा, और क्या होएगा !)

० चल गई...... (शैल चतुर्वेदी)
( अब बन्द करो चलाना, वरना जो थोड़े-बहुत रह गये हैं, वे भी झड़ जाएंगे ! )

० तुम्हारी कसम मैं तुम्हारा नहीं हूं...... (रंग)
(आप हुए भी किसके हैं, श्रीमन् !)

० दरवाजा बन्द किया, खिड़की को खोल लिया...... (स्वामी)
( आपसे और क्या अपेक्षा की जा सकती थी !)

० मेरी नींद चुराने वाले, जा तुझको भी नींद न आए...... ( भारत भूषण )
( नींद की गोलियां खा लेगा तो क्या कर लोगे ?)

० सो न सका कल याद तुम्हारी आई सारी रात...... (र० ना० अवस्थी )
( अनिद्रा रोग में ऐसा ही होता है तात !)

० नक्शे पर से नाम मिटा दो पापी पाकिस्तान का...... (बालकवि वैरागी)
(जितना बच रहा है, उतना छोड़ दो बेचारे को !)

० सो जा बेटे सो जा, ऐसी कोई बात नहीं है...... (देवराज दिनेश)
( बात कैसे नहीं है, मुझे सब मालूस है डैडी !)

० मैं इसीलिए नित छंद बनाती हूं...... (स्नेहलता )
( कवि सम्मेलनों के मिलें निमंत्रण नित्य। )

० मेरे देश को बचा लो, मेरे प्राण ले लो, रे ..... ( संतोषानन्द )
(की करना है प्राण, मैनूं तो कविता सुणादे कबीराज )

(जय बोलो बेईमान की; 1973)

- काका हाथरसी

 

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश