इस विशाल प्रदेश के हर भाग में शिक्षित-अशिक्षित, नागरिक और ग्रामीण सभी हिंदी को समझते हैं। - राहुल सांकृत्यायन।
मन की आँखें खोल (काव्य)    Print this  
Author:सुदर्शन | Sudershan

बाबा, मन की आँखें खोल!
दुनिया क्या है खेल-तमाशा,
चार दिनों की झूठी आशा,
पल में तोला, पल में माशा,
ज्ञान-तराजू लेके हाथ में---
तोल सके तो तोल। बाबा, मनकी आँखें खोल!

झूठे हैं सब दुनियावाले,
तन के उजले मनके काले,
इनसे अपना आप बचा ले,
रीत कहाँ की प्रीत कहाँ की---
कैसा प्रेम-किलोल। बाबा, मनकी आँखें खोल!

नींद में माल गँवा बैठेगा,
मन की जोत बुझा बैठेगा,
अपना आप लुटा बैठेगा,
दो दिन की दुनिया में प्यारे--
पल पल है अनमोल। बाबा, मनकी आँखें खोल!

मतलब की यह दुनियादारी,
मतलब के सारे संसारी,
तेरा जग में को हितकारी?
तन-मन का सब ज़ोर लगाकर---
नाम हरी का बोल। बाबा, मनकी आँखें खोल!

-सुदर्शन

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश