इस विशाल प्रदेश के हर भाग में शिक्षित-अशिक्षित, नागरिक और ग्रामीण सभी हिंदी को समझते हैं। - राहुल सांकृत्यायन।
कलम इतनी घिसो, पुर तेज़--- | ग़ज़ल (काव्य)    Print this  
Author:संध्या नायर | ऑस्ट्रेलिया

कलम इतनी घिसो, पुर तेज़, उस पर धार आ जाए
करो हमला, कि शायद होश में, सरकार आ जाए

खबर माना नहीं अच्छी, मगर इसमें बुरा क्या है
कि जूते पोंछने के काम ही अखबार आ जाए

दिखाओ ख्वाब जन्नत के, मगर इतना न बहकाओ
कहीं ऐसा न हो, वो बेच कर घर बार आ जाए

जिसे हर बज़्म ने तहसीन से महरूम रक्खा है
हमारी बज़्म में या रब, वही फनकार आ जाए

मज़ा छुट्टी का दोनों ओर से आधा हुआ जानो
अगर इतवार के दिन ही कोई त्योहार आ जाए

इसी उम्मीद से हर रोज़ खुलता है कुतुबखाना
दवा को ढूंढता, शायद,कोई बीमार आ जाए

अभी पर्दा गिराने में ज़रा सी देर बाकी है
ये मुमकिन है कहानी में नया किरदार आ जाए

-संध्या नायर, ऑस्ट्रेलिया

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश