हिंदी का पौधा दक्षिणवालों ने त्याग से सींचा है। - शंकरराव कप्पीकेरी
घास में होता विटामिन (बाल-साहित्य )    Print this  
Author:रबीन्द्रनाथ टैगोर | Rabindranath Tagore

घास में होता विटामिन
गाय, भेड़ें, घोड़े;
घास खाकर जीते, उनके
बावर्ची हैं थोड़े!

कहते है अनुकूल बाबू :
"आदत गलत लगा दी!
कुछ दिन खाओ घास, पेट खुद
हो जाएगा आदी--
व्यर्थ अनाज की खेती, कोई
खेत न जोते-गोड़े!"

घरनी गुहराती रह जाती,
वह निकल पड़ते हैं चरने,
ठुकराकर चल देते, जब वह
पैरों को लगती है धरने--
मानव-हित का जोश, भला वह
अपना हट क्यों छोड़ें!

दो दिन भी ना हुए थे, जब वह
छोड़ गए यह लोक ही,
बेधे हैं विज्ञान-ह्रदय को
अभी यह महाशोक ही :
जीते तो प्रमाण के पथ में
बचते कहीं न रोड़े!

- रबीन्द्रनाथ टैगोर
[रवीन्द्रनाथ का बाल साहित्य, अनुवाद : युगजीत नवलपुरी, साहित्य अकादेमी, नई दिल्ली]

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश