हिंदी का पौधा दक्षिणवालों ने त्याग से सींचा है। - शंकरराव कप्पीकेरी
दिव्य दोहे  (काव्य)    Print this  
Author:अयोध्या सिंह उपाध्याय 'हरिऔध' | Ayodhya Singh Upadhyaya Hariaudh

अपने अपने काम से है सब ही को काम।
मन में रमता क्यों नहीं मेरा रमता राम ॥

गुरु-पग तो पूजे नहीं जी में जंग उमंग।
विद्या क्यों विद्या बने किए अविद्या संग॥

बातें करें आकास की बहक बहक हों मौन।
जो वे बनते संत है तो असंत हैं कौन ॥

अपने पद पर हो खड़े तजें पराई पौर।
रख बल अपनी बाँह का बनें सफल सिरमौर॥

कोई भला न कर सका खल को बहुत खखेड़।
सुंदर फल देते नहीं बुरे फलों के पेड़॥

भले बुरे की ही रही भले बुरे से आस।
काँटे है तन बेधते देते सुमन सुबास॥

जो ना भले है, तो भले कैसे दें फल फूल।
कांटे बोवें क्यों नहीं कांटे भरे बबूल ॥

ऊंचा होकर भी सका तू चल भली न चाल।
चंचल दल तेरे रहें क्यों चलदल सब काल॥

मिले बुरे में कब भले यह कहना है भूल।
काँटों में रहते नहीं क्या गुलाब के फूल॥

आम आम है प्रकृति से और बबूल बबूल।
काँटे ही काँटे रहे रहे फूल ही फूल॥

-अयोध्या सिंह उपाध्याय ‘हरिऔध'

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश