यह कैसे संभव हो सकता है कि अंग्रेजी भाषा समस्त भारत की मातृभाषा के समान हो जाये? - चंद्रशेखर मिश्र।
सरकार कहते हैं (काव्य)    Print this  
Author:गोपालप्रसाद व्यास | Gopal Prasad Vyas

बुढ़ापे में जो हो जाए उसे हम प्यार कहते हैं,
जवानी की मुहब्बत को फ़कत व्यापार कहते हैं।
जो सस्ती है, मिले हर ओर, उसका नाम महंगाई,
न महंगाई मिटा पाए, उसे सरकार कहते हैं।

जो पहुंचे बाद चिट्ठी के उसे हम तार कहते हैं,
जो मारे डॉक्टर को हम उसे बीमार कहते हैं।
जो धक्का खाके चलती है उसे हम कार मानेंगे,
न धक्के से भी जो चलती उसे सरकार कहते हैं।

कमर में जो लटकती है, उसे सलवार कहते हैं,
जो आपस में खटकती है, उसे तलवार कहते हैं।
उजाले में मटकती है, उसे हम तारिका कहते,
अंधेरे में भटकती जो, उसे सरकार कहते हैं।

मिले जो रोज बीवी से, उसे फटकार कहते हैं,
जिसे जोरू नहीं डांटे, उसे धिक्कार कहते हैं।
मगर फटकार से, धिक्कार से भी जो नहीं समझे,
उसे मक्कार कहते हैं, उसे सरकार कहते हैं।

सुबह उठते ही बिस्तर से 'कहाँ अखबार' कहते हैं,
शकल पर तीन बजते 'चाय की दरकार' कहते हैं।
वे कहती हैं, 'चलो बाजार' हँसकर शाम के टाइम,
तो हम नज़रें झुकाकर 'मर गए सरकार' कहते हैं।

-गोपालप्रसाद व्यास

 

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश