हिंदुस्तान की भाषा हिंदी है और उसका दृश्यरूप या उसकी लिपि सर्वगुणकारी नागरी ही है। - गोपाललाल खत्री।

इस जग में (काव्य)

Print this

Author: शम्भुनाथ शेष

इस जग में भेजा था तूने 
तो जग का जीवन भी देता! 
जैसा मुझको हृदय दिया था, 
कुछ वैसे साधन भी देता!

राई-सी है दुनिया तेरी, 
पर्वत से हैं सपने मेरे; 
मेरी प्रतिभा के हारिल को 
सीमाहीन गगन भी देता!

सागर के प्यासे की भी क्या, 
ओस-कणों से प्यास बुझी है?
प्रेम-प्यास मुझको दी थी, 
तो प्रेम सहित मधुकण भी देता!

तीनों लोक लीक से लगते, 
मेरी आकांक्षा के आगे; 
कलित-कामना की क्रीडा को 
विस्तृत-सा प्रांगण भी देता!

प्रस्तर की प्रतिमा में कब तक 
प्राण-प्रतिष्ठा होगी तेरी?
कण-कण में जो तुझे देखते, 
ऐसे दिव्य-नयन भी देता !

नयनों में आश्चर्य भरा है, 
देख किसी की अद्भुत झांकी, 
जग होता प्रतिबिम्बित जिसमें, 
वह विचार-दर्पण भी देता!

सुनता हूँ तेरा निवास है 
मेरे सत् सौन्दर्य लोक में, 
अकुलाता यों ज्ञान भला क्यों 
प्रिय, जो तू दर्शन भी देता!

-शम्भुनाथ शेष 
(2 जून 1915 - 23 मई 1958)

हारिल = एक प्रकार की चिड़िया जो प्रायः अपने चंगुल में कोई लकड़ी या तिनका लिए रहती है। 
प्रस्तर की प्रतिमा = वह मूर्ति जो पत्थर से निर्मित हो। 

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश