हिंदी का पौधा दक्षिणवालों ने त्याग से सींचा है। - शंकरराव कप्पीकेरी

पारित प्रस्ताव (काव्य)

Print this

Author: पद्मेश गुप्त

चर्चों पर चर्चे भी बहुत हो गये
पर्चों पर पर्चे भी बहुत हो गये
और अब तो मेरे दोस्तो
खचों पर खर्चे भी बहुत हो गये ।
काम नहीं चलेगा अब
अध्याय में विराम से
यात्रा में विश्राम से ।
हमने जो लिखा,
जो पढ़ा,
जो सुना है
इस दौर की
जिस दौड़ को
चुना है,
वह जाती है
उस सीढ़ी की ओर
जो सीढ़ी जाती है
नयी पीढ़ी की ओर ।
गति नहीं दी

हमने यदि
स्वयं को इस दौड़ पर
यह खर्चे, यह पर्चे, यह चर्चे
सब सो जायेंगे
यहीं कफ़न को ओढ़ कर ।
एक बार फिर
किनारे पर ही
डूब जायेगी नाव
हँसेगा हम पर
एक और
नया पारित प्रस्ताव ।

-पद्मेश गुप्त
[सातवें विश्व हिन्दी सम्मेलन, सूरीनाम के अवसर पर सुनाई गयी कविता]

*पद्मेश गुप्त ब्रिटेन के जानेमाने हिन्दी साहित्यकार हैं।

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश