यह कैसे संभव हो सकता है कि अंग्रेजी भाषा समस्त भारत की मातृभाषा के समान हो जाये? - चंद्रशेखर मिश्र।

टूटी माला बिखरे मनके | गीत (काव्य)

Print this

Author: मनोहरलाल ‘रत्नम

टूटी माला बिखरे मनके, झुलस गये सब सपने।
रिश्ते नाते हुए पराये, जो कल तक थे अपने ॥

अंगुली पकड़ कर पांव चलाया, घर के अंगनारे में,
यौवन लेकर सम्मुख आया, वह अब बटवारे में।
उठा नाम बटवारे का तो, सब कुछ लगा है बटने ॥
टूटी माला बिखरे मनके, झुलस गये सब सपने।
रिश्ते नाते हुए पराये, जो कल तक थे अपने॥

रिश्तों की अब बूढ़ी आंखें, देख-देख पथरायीं,
आशाओं के महल की सांसें, चलने से घबरायीं ।
कल का नन्हा हाथ गाल पर, लगा तमाचा कसने ॥
टूटी माला बिखरे मनके, झुलस गये सब सपने।
रिश्ते नाते हुए पराये, जो कल तक थे अपने ॥

दीवारों पर चिपके रिश्ते, रिश्तों पर दीवारें,
घर आंगन सब हुए पराये, किसको आज पुकारें।
रिश्तों की मैली-सी चादर, चली सरक कर हटने ॥
टूटी माला बिखरे मनके, झुलस गये सब सपने।
रिश्ते नाते हुए पराये, जो कल तक थे अपने॥

हर घर में बस यही समस्या, चौखट पार खड़ी है,
जिसको छू कर देखा 'रत्नम् ' विपदा वहीं बड़ी है।
हर रिश्तों में पड़ी दरारें लगा कलेजा फटने ॥
टूटी माला बिखरे मनके, झुलस गये सब सपने।
रिश्ते नाते हुए पराये, जो कल तक थे अपने ॥

-मनोहरलाल ‘रत्नम

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश