विदेशी भाषा के शब्द, उसके भाव तथा दृष्टांत हमारे हृदय पर वह प्रभाव नहीं डाल सकते जो मातृभाषा के चिरपरिचित तथा हृदयग्राही वाक्य। - मन्नन द्विवेदी।

हुल्लड़ के दोहे  (काव्य)

Print this

Author: हुल्लड़ मुरादाबादी

बुरे वक्त का इसलिए, हरगिज बुरा न मान। 
यही तो करवा गया, अपनों की पहचान॥ 

आंसू यादें वेदना अब बिल्कुल बेकार।
आगे बढ़े ने देह से, इस कलयुग का प्यार॥

बेची जब से आत्मा, आई धन की बाढ़।
बंगले में रहकर लगा, जीवन जेल तिहाड़॥

नारी तन के रूप का, जब भी खिला वसंत।
कवियों की औकात क्या, बच पाए ना संत॥

जहर मिला सुकरात को, और ईसा को क्रास।
तू मामूली दुखों से ही, क्यों हो गया उदास॥

- हुल्लड़ मुरादाबादी

 

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें