यह संदेह निर्मूल है कि हिंदीवाले उर्दू का नाश चाहते हैं। - राजेन्द्र प्रसाद।

शहीदी दिवस | 23 मार्च (विविध)

Print this

Author: भारत-दर्शन संकलन

शहीदी दिवस - 23 मार्च

23 मार्च 1931 की रात भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु की देश-भक्ति को अपराध की संज्ञा देकर फाँसी पर लटका दिया गया।  मृत्युदंड के लिए 24 मार्च की सुबह तय की गई थी लेकिन किसी बड़े जनाक्रोश की आशंका से डरी हुई अँग्रेज़ सरकार ने 23 मार्च की रात्रि को ही इन क्रांति-वीरों की जीवनलीला समाप्त कर दी। रात के अँधेरे में ही सतलुज के किनारे इनका अंतिम संस्कार भी कर दिया गया।

'लाहौर षड़यंत्र' के मुक़दमे में भगतसिंह को फाँसी की सज़ा दी गई थी तथा केवल 24 वर्ष की आयु में ही, 23 मार्च 1931 की रात में उन्होंने हँसते-हँसते, 'इंकलाब जिंदाबाद' के नारे लगाते हुए फाँसी के फंदे को चूम लिया।

भगतसिंह युवाओं के लिए भी प्रेरणा स्रोत बन गए। वे देश के समस्त शहीदों के सिरमौर थे।

[भारत-दर्शन संकलन]

 

 

Back

Other articles in this series

असेम्बली में बम | आज़ादी के तराने
मक़सद | कविता
असेम्बली हॉल में फेंका गया पर्चा
हँसते-हँसते फाँसी पर झूल गई यह देशभक्त तिकड़ी | 23 मार्च 1931
असेम्बली हॉल प्रसंग
भगतसिंह की पसंदीदा शायरी
माँ हम विदा हो जाते हैं
ऐसे थे चन्द्रशेखर आज़ाद
रामप्रसाद बिस्मिल का अंतिम पत्र
शहीद अशफ़ाक की कलम से | शायरी
नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जीवनी
तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आज़ादी दूंगा - सुभाष चंद्र बोस
आह्वान
सुनाएँ ग़म की किसे कहानी
भाई कुलतार सिंह के नाम भगतसिंह का अंतिम पत्र
भगतसिंह का बचपन
 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश