राष्ट्रीय एकता की कड़ी हिंदी ही जोड़ सकती है। - बालकृष्ण शर्मा 'नवीन'
हाथ उठा नाची तरकारी (बाल-साहित्य )  Click to print this content  
Author:सरस्वती कुमार दीपक

ताक लगाकर बैठी थीं,
मालिन की डलिया में तरकारी ।
अवसर पाया, ताक-धिना-धिन--
नाच उठीं सब बारी-बारीसरस्वती कुमार दीपक

नींबू और टमाटर लुढ़के, उछल पड़े तरबूजे,
काशीफल के साथ बजाते, ढोल मगन खरबूजे,
ककड़ी अकड़ी और थाप
तबले पर उसने मारीसरस्वती कुमार दीपक

कद्दू काट मृदंग बनाकर, नाची भिंड़ी रानी,
नीबू काट मंजीरों पर, कहती अनमोल कहानी,
बीच बजरिया, नाच निराला--
जमकर देख रहे नर-नारी!

लौकी गोभी नाक सिकोड़े, सेम मेम-सी नाचे,
आलू और कचालू ने थे बोल मटर के बांचे,
पालक बालक जैसा डोले
मैथी की छवि न्यारी ।

- सरस्वती कुमार दीपक
[हिंदी के सर्वश्रेष्ठ बालगीत, १९८७, पराग प्रकाशन, दिल्ली]

 

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page
 
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश