राष्ट्रभाषा के बिना आजादी बेकार है। - अवनींद्रकुमार विद्यालंकार
स्वर किसका? (कथा-कहानी)  Click to print this content  
Author:डॉ प्रेम नारायण टंडन

ईश्वर की खोज करते-करते हारकर जीव ने कहा - बड़ी मूर्खता की मैंने जो उस निराकार को पाने की आशा से अब तक भटकता फिरा ।

तभी उसे सुनाई दिया - पगले, तेरे खोज में लगने के पूर्व से ही मैं तेरे साथ हूं । तुझे फुर्सत भी तो मिले मुझे देखने की !

और जीव ईश्वर को सुनता तो है, पर पहचानता नहीं । वह आज भी चकित होकर सोचता है यह स्वर किसका है!

- डॉ प्रेम नारायण टंडन

 

Previous Page  |   Next Page
 
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें


Deprecated: Directive 'allow_url_include' is deprecated in Unknown on line 0