हिंदी भाषा को भारतीय जनता तथा संपूर्ण मानवता के लिये बहुत बड़ा उत्तरदायित्व सँभालना है। - सुनीतिकुमार चाटुर्ज्या।
व्यथा (कथा-कहानी)  Click to print this content  
Author:अमिता शर्मा

आज ताई को कई दिनों के बाद पार्क में देखा तो मैंने दूर से आवाज दी, "ताई राम-राम!"


"राम-राम, बेटा। जीते रहो!"


ताई ने हमेशा की तरह आशीर्वादों की झड़ी लगा दी। पर आज ताई के चेहरे पर वो खुशी नजर नहीं आ रही थी जो हमेशा रहा करती थी। सुस्त और उदास सी लग रही थी ताई।


"तबीयत तो ठीक है न?" मैंने पूछा।


"हाँ, तबीयत तो एकदम ठीक है बेटा।"


"फिर क्या बात है?"


"अरे क्या बताऊँ! इन लौंडों के लिए सारी ज़िन्दगी खपा दी। दिन को दिन समझा, न रात को रात। पर मेरी परवाह किसे है? सब अपनी-अपनी धुन में मस्त हैं। अरे सब स्वार्थ के रिश्ते हैं बेटा।" ताई लगभग रूआंसी हो उठी।


"अरे मुझसे कह दिया होता। कोई काम हो तो बता दिया करो। मैं भी तो आपके बेटे जैसा हूँ।"


कॉलोनी के सब बच्चे उन्हें ताई ही बुलाते हैं। बहुत सहनशील है ताई। बचपन से उन्हें देखा। उन्हें कभी किसी से कोई शिकायत नहीं रहती। इतना अधीर तो उन्हें कभी नहीं देखा।


"अच्छा, बताओ क्या काम है?"


"अरे बेटा, कुछ नहीं। तीन दिन से इंटरनेट नहीं चल रहा।" आखिर ताई ने अपने दर्द का पिटारा खोल दिया।


- अमिता शर्मा

 

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page
 
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश