राष्ट्रीय एकता की कड़ी हिंदी ही जोड़ सकती है। - बालकृष्ण शर्मा 'नवीन'
कवि रमाशंकर यादव ‘विद्रोही’ नहीं रहे (विविध)  Click to print this content  
Author:भारत-दर्शन संकलन

8 दिसंबर 2015 (भारत):  जन-कवि रमाशंकर यादव ‘विद्रोही' के चले जाने से सबसे अधिक धक्का जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय के छात्रों को लगा है। जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में पिछले दो दशकों में आने वाले हजारों छात्र उनकी कविता सुनकर संघर्ष का पाठ सीखे हैं। 'विद्रोही' ऑक्युपाई यूजीसी के मार्च में भी सम्मिलित होने आए थे, उसी समय उनकी तबीयत बिगड़ गई और तत्काल उनका निधन हो गया।

उनकी चर्चित कविताओं के तेवर देखिए -

‘जब भी किसी गरीब आदमी का अपमान करती है,
ये तुम्हारी दुनिया,
तो मेरा जी करता है,
कि मैं इस दुनिया को उठाकर पटक दूं।'

#

‘मैं भी मरूंगा और भारत के भाग्य विधाता भी मरेंगे
लेकिन मैं चाहता हूं
कि पहले जन-गण-मन अधिनायक मरें,
फिर भारत भाग्य विधाता मरें ',

#

‘मैं किसान हूं आसमान में धान बो रहा हूं,
कुछ लोग कह रहे हैं कि पगले,
आसमान में धान नहीं जमा करता,
मैं कहता हूं पगले,
अगर जमीन पर भगवान जम सकता है
तो आसमान में धान भी जम सकता है।'

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page
 
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश