भारतीय एकता के लक्ष्य का साधन हिंदी भाषा का प्रचार है। - टी. माधवराव।
भारत न रह सकेगा ... (काव्य)  Click to print this content  
Author:शहीद रामप्रसाद बिस्मिल

भारत न रह सकेगा हरगिज गुलामख़ाना।
आज़ाद होगा, होगा, आता है वह जमाना।।

खूं खौलने लगा है हिन्दुस्तानियों का।
कर देंगे ज़ालिमों का हम बन्द जुल्म ढाना।।

कौमी तिरंगे झंडे पर जां निसार अपनी।
हिन्दू, मसीह, मुसलिम गाते हैं यह तराना।।

अब भेड़ और बकरी बन कर न हम रहेंगे।
इस पस्त हिम्मती का होगा कहीं ठिकाना।।

परवाह अब किसे है जेल ओ दमन की प्यारों।
इक खेल हो रहा है फाँसी पै झूल जाना।।

भारत वतन हमारा भारत के हम हैं बच्चे।
भारत के वास्ते है मंजूर सिर कटाना।

-शहीद रामप्रसाद बिस्मिल

Previous Page  |   Next Page
 
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश