विदेशी भाषा का किसी स्वतंत्र राष्ट्र के राजकाज और शिक्षा की भाषा होना सांस्कृतिक दासता है। - वाल्टर चेनिंग
शेर और खरगोश की कहानी (बाल-साहित्य )  Click to print this content  
Author:विष्णु शर्मा

किसी घने जंगल में एक शेर रहता था। अपने पेट की भूख शांत करने के लिए वह हर रोज अनेक जानवरों को मार डालता था। इससे सभी जानवर चिंतित थे। सभी जानवरों ने एक सभा बुलाई और निर्णय लिया कि वे इस विषय पर शेर से बात करेंगे। शेर से बातचीत करने के बाद यह तय हुआ कि वे प्रतिदिन एक जानवर शेर के पास भेज देंगे। इस तरह यह क्रम चलता रहा और एक दिन एक खरगोश की बारी आई। वह शेर के हाथो मरना नहीं चाहता था। शेर के पास जाते हुए खरगोश खरगोश अपनी प्राण-रक्षा के बारे में किच रहा था कि रास्ते में उसे एक कुआं दिखाई दिया, जिसके पानी में खरगोश को अपना प्रतिबिंब दिखाई दिया। उसे एक युक्ति सूझी। उसने शेर के पास पंहुचकर कहा, “महाराज! मैंने रास्ते में आपसे भी अधिक शक्तिशाली शेर देखा। वह मुझे मारकर खा जाना चाहता था लेकिन लेकिन मैं बड़ी मुश्किल से अपनी जान बचाकर आपके पास पहुंचा हूँ।”

खरगोश की बात सुनकर शेर को बहुत गुस्सा आया। वह बोला, "मेरे से बलशाली और शेर कहाँ से आ गया? तुम मुझे उसके पास लेकर चलो। खरगोश शेर को कुएं के पास ले गया और बोला, "महाराज! आप इस गुफा में देखो। वह यहीं रहता है। शेर कुंए में झाँका तो उसे अपनी ही परछाई दिखाई दी। शेर जोर से दहाड़ा तो तो उसकी अपनी आवाज कुएं से गूंजी। शेर को लगा कि दूसरा शेर भी दहाड़ रहा है। शेर ने हमला बोलते हुए कौए में छलांग लगा दी और उसी में डूबके कर मर गया।

शिक्षा: बल की अपेक्षा बुद्धि शक्तिशाली होती है। हमारे ऊपर कितनी विपत्तियाँ आएँ, हमें हमेशा अपनी बुद्धि से काम लेना चाहिए। 

[पंचतंत्र की कहानी]

Previous Page  |  Index Page
 
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश